The Blog of Cafe Dissensus Magazine – we DISSENT

Posts tagged ‘Robert Wood’

Robert Wood’s Five Poems in Hindi Translation

By Robert Wood
जहाँ उन्होंने तबसरा किया कि
रंग हमेशा हरा था, किसी वजह से, और
मशरूम कभी खोजे नहीं मिले

Advertisements